सुस्वागतम्

समवेत स्वर पर पधारने हेतु आपका तह-ए-दिल से आभार। आपकी उपस्थिति हमारा उत्साहवर्धन करती है, कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी अवश्य दर्ज़ करें। -- नीलम शर्मा 'अंशु

01 अगस्त 2010

शाम ढले खिड़की तले तुम सीटी बजाना छोड़ दो.......

शोला जो भड़के दिल मेरा धड़के

दर्द जवानी का सताए ........

जी हाँ कुछ याद आया इन पंक्तियों से ?

आज एक अगस्त फ़िल्म अभिनेता-निर्देशक भगवान दादा का जन्म दिन है।

उन्होंने फ़िल्मों में नृत्य यानि डांस को एक नई परिभाषा दी।

- - - - -

आज ट्रेजेडी क्वीन मीना कुमारी जी का भी जन्म दिन है।

दोनों कलाकारों की याद में हमारी श्रद्धांजलि।

1 टिप्पणी:

  1. दोनों महान कलाकारों को सलाम ।

    कृपया वर्ड-वेरिफिकेशन हटा लीजिये
    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:
    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?>
    इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें..बस हो गया..कितना सरल है न हटाना
    और उतना ही मुश्किल-इसे भरना!! यकीन मानिये

    उत्तर देंहटाएं